सोमवार, 10 जुलाई 2017

आखिरकार दार्जिलिंग को कश्मीर बनाने पर तुले क्यों है देश चलाने वाले लोग?

#चीन से निबटने के लिए #सेना और #सरकार दोनों तैयार हैं। यह कैसी तैयारी है कि #सिक्किम का मुख्यमंत्री पूछने लगे हैं कि क्या #भारत में सिक्किम का विलय चीन और बंगाल के बीच सैंडविच बनने के लिए हुआ है?

पवन चामलिंग के इस बयान का मौजूदा हालात के मुताबिक बहुत खतरनाक मतलब है क्योंकि चीन ने सिक्किम को भी #कश्मीर बना देने की धमकी दी है। .....Read More

आखिरकार दार्जिलिंग को कश्मीर बनाने पर तुले क्यों है देश चलाने वाले लोग?

सोमवार, 3 जुलाई 2017

वे मुसोलिनी के दीवाने थे. हिटलर उनकी धड़कनों का राजा था. उन्हें तो गांधीजी को मारना ही था.

वे मुसोलिनी के दीवाने थे. हिटलर उनकी धड़कनों का राजा था. उन्हें तो गांधीजी को मारना ही था.: उन्हें तो गांधीजी को मारना ही था. उनके सामने सवाल एक व्यक्ति का नहीं एक विचारधारा का था. उन्हें भारत की मेलजोल की संस्कृति से नफ़रत थी. उन्हें गंगा जमनी हिन्दुस्तानी तहजीब से नफ़रत थी.........Read moreon

वे मुसोलिनी के दीवाने थे. हिटलर उनकी धड़कनों का राजा था. उन्हें तो गांधीजी को मारना ही था.

मंगलवार, 20 जून 2017

संविधान नहीं नवउदारवाद का अभिरक्षक राष्ट्रपति

संविधान नहीं नवउदारवाद का अभिरक्षक राष्ट्रपति: राष्ट्रपति का चुनाव भी उसी अंधी दौड़ की भेंट चढ़ चुका है। राष्ट्रपति संविधान का अभिरक्षक कहलाता है, लेकिन पूरी चर्चा में वह नवउदारवाद के अभिरक्षक के रूप में सामने आ रहा है।....सीधे समाजवादी नाम वाली समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह की भूमिका को देख कर लगता नहीं कि जिस लोहिया को वे मायावती के अंबेडकर की काट में इस्तेमाल करते हैं, उस महान समाजवादी चिंतक की एक पंक्ति भी उन्होंने पढ़ी है। .... पढ़ें व अपना मत दें..... http://www.hastakshep.com/hindiopinion/president-custodian-of-neo-liberalism-not-constitution-14457

RSS को सरकारी सुविधाओं पर नफरत के बीज बोने की इजाजत क्यों दी जानी चाहिये: मायावती

RSS को सरकारी सुविधाओं पर नफरत के बीज बोने की इजाजत क्यों दी जानी चाहिये: मायावती: पेट भरे लोगों पर ही मोदी सरकार का ध्यान.... योग जैसे कार्यक्रमों में धन और समय खर्च करना सरकार का काम नहीं : मायावती

.......Read More on RSS को सरकारी सुविधाओं पर नफरत के बीज बोने की इजाजत क्यों दी जानी चाहिये: मायावती:

रविवार, 26 मार्च 2017

गोवा में बीफ बिकता है और उप्र में बीफ बंदी, सरकार दोनों जगह भाजपा की ही है

गोवा में बीफ बिकता है और उप्र में बीफ बंदी, सरकार दोनों जगह भाजपा की ही है: छोटे स्लाटर हाउस बंद होंगे, लेकिन बीफ की बड़ी कंपनियां अपना काम करती रहेंगी। यानी छोटे कारोबारियों की छुट्टी और कारपोरेट मुनाफा कमाएंगे।जब से भाजपा की केंद्र में सरकार बनी है बीफ निर्यात डेढ़ गुना हो..

गोवा में बीफ बिकता है और उप्र में बीफ बंदी, सरकार दोनों जगह भाजपा की ही है .....छोटे स्लाटर हाउस तो बंद होंगे, लेकिन बीफ की बड़ी कंपनियां अपना काम करती रहेंगी। मतलब यह कि छोटे कारोबारियों की छुट्टी हो जाएगी और कारपोरेट ज़्यादा मुनाफा कमा सकेंगे। .....आगे पढ़ें इस लिंक पर
https://t.co/dU1xESzHGL #BJP #SuperYogi #YogiAdityanath #YogiSarkar #UP #Slaughterhouse